जीवन में अपना सच्चा लक्ष्य खोजें

 
जीवन यात्रा में आप कभी खुद से जो सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न पूछ सकते हैं।  वे यह हैं मैं यहां क्यों आया हूं? मैं जीवन में सचमुच क्या चाहता हूं? मैं कहां जा रहा हूं और अगर मैं अपने सारे लक्ष्य हासिल कर लूं तो मेरी जिंदगी कैसी दिखेगी? 80/20 का नियम कहता है कि आप जो 20% काम करते हैं वह आपके पूरे कामों के 80% मूल्य का प्रतिनिधित्व करते हैं। इसके अलावा आपके जीवन पर 20/80  का नियम भी लागू होता है यह नियम कहता है कि आपके लिए जो भी वाकई महत्वपूर्ण है उसके बारे में सोचने और योजना बनाने में आप पहले जो 20% समय लगाते हैं वह अंततः मिलने वाले 80% मूल्य और परिणामों को तय करता है सबसे सफल और सुखी लोग वही होते हैं जो ज्यादातर समय यह सोचने में लगाते हैं। कि वह सचमुच कौन हैं? और वह सचमुच क्या चाहते हैं ? वे अपने सच्चे लक्ष्य और इक्षाओं की रोशनी में लगातार अपनी प्रगति का आकलन और मूल्यांकन करते रहते हैं वे यह सुनिश्चित करते हैं कि सफलता की सीढ़ी पर चढ़ते समय सही इमारत से टिकी रहे। 

 इस Article  में आपको विचारों और प्रश्नों की एक श्रृंखला बताई जाएगी जिसका इस्तेमाल करके आप अपने जीवन में अपने सच्चे अर्थ और उद्देश का पता लगा सकते हैं इन प्रश्नों पर पूरी तरह सोचने और इनका जवाब देने की आपकी इच्छा योग्यता का आपके दीर्घकालीन खुशी व सफलता पर जितना प्रभाव पड़ सकता है, उतना किसी दूसरी चीज से नहीं पड़ेगा। 

       व्यक्तिगत महानता का शुरुआती बिंदु यह एहसास है कि आप सचमुच असाधारण हैं ! पूरी सृष्टि में हूबहू आप जैसा कोई इंसान पहले कभी नहीं रहा आप में  ऐसे उल्लेखनिय योग्यताएं और कुशलता , रुझान, ज्ञान और विचार हैं, जो आपको संसार में अब तक आए लोगों से भिन्न और श्रेष्ठ बनाती है इस समय भी आपके भीतर इतनी क्षमता है  की आप उससे ज्यादा हासिल  कर ले जितना आपने आज तक हासिल किया है। आप "सफलता के जीव के रूप में बनाए गए हैं आपके अंदर उन चीजों को ज्यादा करने की प्रेरणा भरी गई है जिनसे आपको अपनी मनचाही सफलता और खुशी मिल सकती है। 
अफसोस की बात है कि ज्यादातर लोग अपनी सच्ची क्षमताओं से कम पर काम करते हुए जिंदगी गुजार देते हैं।  और फिर "अपना संगीत अपने भीतर लिए हुए ही मर जाते हैं" वे  दबाव और घटनाओं पर अभिभावकों और अधिकारियों पर बिलों और जिम्मेदारियों पर प्रतिक्रिया करते रहते हैं।  जब तक यह जीवन शैली स्वचालित और निर्विवाद नहीं बन जाती। वे  कभी शांति से बैठ कर सोचने का समय ही नहीं निकालते हैं कि वे खुद के लिए क्या चाहते हैं। 

Leaders  का एक गुण यह  होता है कि" वह जानते है की वे कौन है "Leader वे  स्त्री पुरुष है, जिन्होंने समय लगाकर यह पूरी तरह स्पष्ट कर दिया है कि वे  किसके पक्ष में खड़े हैं और किस में यकीन करते हैं वे जानते हैं कि वह कहां जा रहे हैं और वह वहां कैसे पहुंचेंगे। 
 
   अच्छी खबर यह है कि Leaders पैदा नहीं होते Leader तो बनते हैं आप ऐसे विचार सोचकर लीडर बन सकते हैं। जो लीडर सोचते हैं आप ऐसे काम करके लीडर बनते हैं जो लीडर करते हैं नेतृत्व का अर्थ "पद" नहीं है। जिसे लोग आज समझते हैं यह तो वह कार्य है नेतृत्व किसी कार्ड पर लिखा पदनाम या पदवी नहीं है ,यह तो उन चीजों से तय होता है जो आप हर दिन करते और कहते हैं, जब आप किसी लीडर की तरह सोचते हैं चलते हैं बात करते हैं और काम करते हैं तो आप लीडर बन जाते हैं आप अपने जीवन और भविष्य की बागडोर अपने हाथों में थाम लेते हैं आप अपनी तकदीर के स्वामी और अपने भविष्य के आर्किटेक्ट बन जाते हैं 

    आपको इस धरती पर इसलिए भेजा गया था ताकि आप अपने जीवन में कुछ अद्भुत ! करें आपका काम यह पता लगाना है की  के वह अद्भुत चीज है क्या और फिर उसे बहुत अच्छी तरह से करने में अपने पूरे दिल को झोंक देना है।  आपके जीवन का सिर्फ एक उद्देश्य हो सकता है, जैसा मदर टेरेसा का था या फिर आपके जीवन के कई क्रमिक उद्देश्य हो सकते हैं एक के बाद एक उद्देश्य हो सकते हैं जब आप विकास करते हुए ज्यादा अच्छे इंसान बनते हैं 
सबसे सफल पुरुषों और महिलाओं में 1 गुण समान होता स्पष्टता उन्हें बहुत स्पष्टता से पता होता है कि वह किसके पक्ष में खड़े हैं किसमें  विश्वास करते हैं और कहां जा रहे हैं यह  आपको भी क्लियर से पता होना चाहिए। 

      आपके "हृदय की इच्छा" क्या है? आपके हृदय की इच्छा की परिभाषा क्या है वह एक खास चीज है जिसे करने के लिए आपको इस पृथ्वी पर भेजा गया था। ऐसी महत्वपूर्ण और अनूठी चीज है जिसे उसके उत्कृष्ट अंदाज में करने के लिए आप अनूठे रूप से उपयुक्त है।  जिंदगी में आप का प्राथमिक लक्ष्य अपने हृदय की इच्छा खोजना होना चाहिए सिर्फ तभी आप वाकई खुश सफल और पूरी तरह संतुष्ट होंगे  आपके ह्रदय की इच्छा क्या है ?

   अपने अपने हृदय की इच्छा खोजने का काम किसी महत्वपूर्ण खोज पर निकलने जैसा है ,
 इस सवाल का जवाब देकर शुरुआत करें : "आप किस महान चीज का सपना देखने की हिम्मत करेंगे ,अगर आपको यह पता हो कि आप असफल नहीं हो सकते?" 

 खुद को सपने देखने की अनुमति दें और बड़े सपने देखें अभ्यास करने के लिहाज  से पल भर के लिए यह कल्पना कर लें कि कहीं पर भी कोई भी सीमाएं नहीं है ,कल्पना करें कि आप पूरे संसार में जो चाहे वह बन सकते हैं पा सकते हैं या फिर कर सकते हैं ।
कल्पना करें की आपके पास वह सारा समय और पैसा है जिसकी आपको कभी जरूरत होगी। कल्पना करें आपके पास वह सारी शिक्षा और अनुभव है जिसकी जरूरत आपको किसी भी काम में सफल होने के लिए होगी।  
कल्पना करें की आपके पास वे सारे मित्र और संपर्क सूत्र हैं जिनसे आप किसी भी दरवाजे को खुलवा सकते हैं या किसी को भी प्रभावित कर सकते हैं ,कल्पना करें की आपके पास वे तमाम अवसर और संसाधन हैं जिनसे आप किसी भी सम्भावना का लाभ ले सकते हैं। कल्पना करें की आपने जिस भी लक्ष्य का सपना देखा है और जिसे तय किया है उसे हासिल करने के लिए आपके पास हर मनचाही चीज़ है। और आपके पास कहीं पर भी किसी तरह की कोई सिमा नहीं हैं। 
तो आप ही बताएं आप खुद के लिए कोण सा लक्ष्य चुनते हैं ?इस प्रश्न का जवाब आपको आपने सच्चे वयक्तित्व और चरित्र के बारे में इतना कुछ बता देगा जितना तमाम मनोवैज्ञानिक परिक्षण भी नहीं बता सकते। 
      ज़्यादातर लोगों के साथ समस्या यह है की वे रोज़मर्रा के जीवन की संकरी और बंधनकारी सोच के दलदल में फसे रहते हैं। 
                    अगर आपको ये Article  अच्छी लगी तो Comment करें इसको मैं Continue करूँगा .......

2 comments:

Powered by Blogger.